IBPS PO परीक्षा पैटर्न: सब कुछ जो आपको जानना आवश्यक हैं!!

Ashu4 years ago 7.0K Views Join Examsbookapp store google play
IBPS PO exam pattern

प्रिय उम्मीदवार,

प्रत्येक वर्ष बैंक कर्मचारी बनने की उम्मीद में लाखों छात्र इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल(IBPS) में प्रोबेशनरी ऑफिसर के लिए अप्लाई करते हैं, लेकिन इस कड़ी प्रतिस्पर्धा में कुछ युवा ही सफल होते हैं। यदि आप भी IBPS PO परीक्षा में उपस्थित होना चाहते हैं तो आपको तैयारी शुरू करने से पहले परीक्षा में सफलता पाने वाले छात्रों की तरह परीक्षा पैटर्न के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। इसलिए IBPS PO परीक्षा पैटर्न जानने के लिए यह संपूर्ण लेख पढ़ें। 

जैसा की IBPS प्रोबेशनरी ऑफिसर्स परीक्षा हर वर्ष आयोजित की जाती हैं और इस लोकप्रिय परीक्षा में सफलता पाने के लिए आप सभी को कड़ी मेहनत करनी होगी ताकि आप देश के सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में से किसी एक के साथ नौकरी कर सकें। परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए विस्तृत सिलेबस के बारे में जानने के लिए IBPS PO के सिलेबस  पर क्लिक करें।

IBPS PO की तैयारी क्यों करनी चाहिए?

IBPS PO परीक्षा में प्रतियोगिता का स्तर काफी कठिन होता हैं। वहीं, परीक्षा पैटर्न के बारे में विस्तार से जाने से पहले, IBPS PO परीक्षा की प्रतिस्पर्धा में शामिल होने से प्राप्त लाभों को समझना महत्वपूर्ण है ताकि आप परीक्षा की तैयारी अधिक रुचि के साथ कर सकें।

कैरियर विकास -

सर्वप्रथम आपका यह कार्य हैं कि परीक्षा में सफल होने पर आपको बैंक से जुड़ना होगा। आपको एक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में एक अधिकारी का पद मिलता है और आपका करियर आसमान की ऊंचाइयों की ओर ले जाएगा।

उचित वेतन -

यह उल्लेख करना महत्वपूर्ण हैं कि यदि आपको एक अच्छा पैकेज मिलता हैं एक प्रोबेशनरी ऑफिसर होने के नाते क्योंकि यह बैंकिंग क्षेत्र में एक बहुत ही प्रतिष्ठित पद है। इसके अलावा, मिलने वाले भत्तें भी आपको आपके अच्छे कार्य के लिए प्रेरित करेंगे।

तेज़ पदोन्नति -

बैंक की नौकरियां मुख्य रूप से इस कारण से प्रसिद्ध हैं कि आपको एक बैंकर के रूप में अपने करियर में वृद्धि मिलती है। सफलता एकमात्र मानदंड यह है कि आपको किसी भी समय में कोई भी चुनौती को स्वीकार करने के लिए तैयार होना चाहिए।

सामाजिक स्थिति -

भारत में यह नौकरी केवल वेतन के बारे में नहीं है, बल्कि इससे जुड़े सोशल स्टेटस के बारे में भी है। यदि आप एक बैंक के अधिकारी बन जाते हैं, तो आपको समाज के सभी कोनों से सामाजिक सम्मान मिलता हैं क्योंकि आप किसी क्षेत्र के आर्थिक विकास में मदद कर सकते हैं।

परिवर्तन लाने की क्षमता -

नए परिवर्तन देश की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने में काफी मददगार साबित होते हैं। एक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक के साथ एक अधिकारी होने के नाते, आप उन्हें विकसित होने का अवसर देकर कई लोगों के जीवन में समृद्धि ला सकते हैं। एक अधिकारी के रूप में, आप उन्हें कुछ नया शुरू करने या व्यवसाय के विस्तार के लिए ऋण प्रदान कर सकते हैं। 

IBPS PO परीक्षा पैटर्नआइए इसे समझें!

जब आप IBPS PO परीक्षा के लाभों से अवगत हो चुके हैं, तो अब यह समझना महत्वपूर्ण हैं कि आपको क्या अध्ययन करना चाहिए और क्या नहीं। साथ ही इस परीक्षा में प्रतिस्पर्धा बहुत अधिक हैं और परीक्षार्थी को बैंक में नौकरी पाने के लिए अच्छे अंकों के साथ इस परीक्षा को क्रैक करने की पूरी कोशिश करनी होती हैं। आपके संदर्भ के लिए IBPS PO  के लिए परीक्षा पैटर्न इस लेख में प्रदान किया गया हैं। 

IBPS PO परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती हैं:-

  • प्रीलिमिनरी परीक्षा
  • मेंस परीक्षा 
  • पर्सनल इंटरव्यू

(1) चरण-I: प्रीलिमिनरी परीक्षा

प्रीलिमिनरी परीक्षा IBPS PO परीक्षा का पहला चरण है। परीक्षार्थी द्वारा प्रीलिमिनरी परीक्षा में प्राप्त अंक अंतिम मेरिट सूची में नहीं जोड़े जाते हैं, लेकिन इस परीक्षा में निर्धारित की गई कट-ऑफ में शामिल होना होता हैं, ताकि चयन के अगले दौर यानी मेन्स परीक्षा के लिए पात्र हो सकें। प्रारंभिक परीक्षा का पैटर्न निम्नानुसार होता हैं:-

  • प्रीलिम्स परीक्षा में 100 अंकों के वैकल्पिक वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं।
  • प्रथम चरण में प्रश्न के प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.25 अंक की नैगेटिव मार्किंग की जाती हैं।
  • प्रीलिमिनरी परीक्षा के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए उम्मीदवारों को कट-ऑफ अंको के साथ-साथ अंग्रेजी भाषा, संख्यात्मक अभियोग्यता, तार्किक योग्यता इन सभी तीन विषयो के लिए स्कोर करना होता हैं।

क्र.सं.

खंड(विषय सूची)

प्रश्नों की संख्या

  अंक

समय सीमा

1

अंग्रेजी भाषा

30

30

20 मिनट

2

संख्यात्मक अभियोग्यता

35

35

20 मिनट

3

तार्किक योग्यता

35

35

20 मिनट


कुल

100

100

60 मिनट


(2) चरण – II: मेंस परीक्षा

एक बार जब आप प्रीलिम्स परीक्षा की बाधा को दूर करने में सक्षम हो जाते हैं, तो आपको मेन्स परीक्षा के लिए चुना जाता हैं। चयन के इस दौर में आपके द्वारा प्राप्त अंकों को अंतिम मेरिट सूची में जोड़ा जाता हैं। इसलिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप इस परीक्षा में जितना संभव हो उतना स्कोर करना चाहिए, ताकि आपको साक्षात्कार के दौर में दिए गए अंकों पर निर्भर न होना पड़े। IBPS PO की मेन्स परीक्षा निम्नलिखित पैटर्न पर आधारित होती हैं:-

  • मेंस परीक्षा वस्तुनिष्ठ परीक्षा और वर्णनात्मक परीक्षा का एक संयोजन होती हैं।
  • समय की कुल अवधि को विशेष वर्गों सामान्य और वित्तीय जागरूकता, अंग्रेजी भाषा, संख्यात्मक अभियोग्यता, तार्किक और कंप्यूटर योग्यता के अनुसार विभाजित किया जाता हैं।
  • आपको IBPS द्वारा तय किए गए समग्र कट-ऑफ के साथ-साथ मेंस परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए न्यूनतम कट-ऑफ अंक प्राप्त करने होंते हैं।
  • पीओ मेन्स परीक्षा में नकारात्मक अंकन होता हैं और साथ ही परीक्षा में प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.25 अंक काटे जाते हैं।

क्र.सं.

     खंड(विषय सूची)

प्रश्नों की संख्या

अंक

  समय सीमा

1.

सामान्य और वित्तीय जागरूकता

40

40

35 मिनट

2.

अंग्रेजी भाषा 

35

40

40 मिनट

3.

डेटा विश्लेषण और व्याख्या

35

60

45 मिनट

4.

तार्किक और कंप्यूटर योग्यता

45

60

60 मिनट


कुल

155

200

घंटे

1.

पत्र लेखन और निंबंध लेखन

(डिस्क्रिप्टिव पेपर)

2

25

30 मिनट


(3) चरण-III: पर्सनल इंटरव्यू

मेंस एग्जाम पास करने वाले कैंडिडेट्स इंटरव्यू के योग्य होंते हैं। यह मूल रूप से बैंकिंग और करंट अफेयर्स के आपके ज्ञान के परीक्षण के बजाय आपके व्यक्तित्व का परीक्षण है। इंटरव्यू राउंड 100 मार्क्स का होता हैं। साक्षात्कार की अवधि औसतन लगभग 10-15 मिनट हैं। इसके माध्यम से किसी कैंडिडेट्स की स्किल्स और व्यक्तित्व को परखा जाता हैं।

फाइनल मार्क्स कैसे कैलकुलेट होंगे ?

जैसा की उपरोक्त लेख से आप जान चुके हैं कि पीओ भर्ती के लिए  चयन प्रीलिम्स,मेंस और इंटरव्यू द्वारा होता हैं। यदि यह जानना चाहते हैं कि आपको इस परीक्षा में कैसे चिह्नित किया जाता हैं? तो आपको इसे समझने की आवश्यकता हैं ताकि आप उसी के अनुसार तैयार कर सकें। मेंस परीक्षा और साक्षात्कार में क्रमशः आपके अंकों के लिए अंतिम अंकों की गणना 80:20 के अनुपात में की जाती हैं।

उदाहरण के लिए, आपने मेन्स परीक्षा में 225 में से 100 अंक प्राप्त किए हैं और साक्षात्कार में आपके अंक 100 में से 70 हैं। अब, IBPS PO की अंकन योजना के अनुसार आपके मुख्य अंक 80 में से 35 में परिवर्तित हो जाएंगे अर्थात 35.55 हालांकि साक्षात्कार के अंक 20 में से परिवर्तित हो जाएंगे। 14. यह आपके कुल अंतिम स्कोर को = (35.55 + 14) = 49.55 में से 100 में ले जाएगा। अंतिम सूची के अनुसार आपका आवंटन केवल इस स्कोर पर निर्भर करेगा।

निष्कर्ष:

SSC CGL और भारतीय रेलवे के साथ-साथ IBPS PO परीक्षा भारत की सबसे लोकप्रिय परीक्षाओं में से एक हैं, जिन पर लाखों युवा आवेदन करते हैं। दोस्तो, यह आपके लिए अपने कैरियर को बड़ा बनाने का मौका है और IBPS PO में सफलता आपको बिल्कुल वही देगी। 

किसी भी प्रश्न के मामले में, आप मुझे IBPS PO परीक्षा पैटर्न के बारे में नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

शुभकामनाएं!!

Choose from these tabs.

You may also like

About author

Ashu

I am author at Examsbook

Read more articles

  Report Error: IBPS PO परीक्षा पैटर्न: सब कुछ जो आपको जानना आवश्यक हैं!!

Please Enter Message
Error Reported Successfully