Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams

Last month 14.6K Views
constitutional provisions for indian president
Today I am providing Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams. You can easily get 2-3 marks with the help of Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams. This post of Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams is very important also related to  Directive Principles and Fundamental Duties

Here’s a blog of Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams.  As you know Constitutional Provisions of Indian President is the very useful topic for Competitive Exams as like Functions of Central Government of India. So, Do Practice Function of Central Government and Indian President for Competitive Exams.


प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा, चाहे वह एसएससी, रेलवे, बैंकिंग, यूपीएससी या राज्य स्तर की कोई परीक्षा हो, में सामान्य ज्ञान खंड होता है जिसमें भारतीय संविधान में राष्ट्रपति के लिए प्रावधान के बारे में कम से कम 1 या 2 प्रश्न पूछे जाते हैं। हर एक निशान को इस प्रकार की महत्वपूर्ण परीक्षाओं में गिना जाता है जब आपका पूरा करियर इस पर टिका होता है। आपको इससे संबंधित हर एक प्रश्न को रटना होगा। क्रमिक वर्गों में भारतीय संविधान के प्रत्येक अनुच्छेद के बारे में विवरण है जिसमें राष्ट्रपति के लिए प्रावधान हैं।

भारतीय राष्ट्रपति के बारे में:

राष्ट्रपति को राष्ट्र का 'प्रथम नागरिक' माना जाता है। वर्तमान में, सम्मान श्री राम नाथ कोविंद को जाता है जिन्हें वर्ष 2017 में 14 वें राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद भारतीय राष्ट्रपति के रूप में चुना गया था।

  • राष्ट्रपति 5 वर्ष का कार्यकाल पूरा करने के बाद सेवानिवृत्त होता है।
  • भारतीय राष्ट्रपति के पास भारतीय सशस्त्र बलों (IAF) के 'कमांडर-इन-चीफ' और देश के 'सेरेमोनियल हेड' के रूप में शक्ति होती है।
  • भारतीय संसद और भारत की विधानसभाओं द्वारा राष्ट्रपति को 'परोक्ष रूप से' चुना जाता है।

भारतीय राष्ट्रपति से संबंधित संवैधानिक प्रावधान:

कुल मिलाकर, भारत में राष्ट्रपति के विभिन्न प्रावधानों की व्याख्या करने वाले संविधान में 27 लेख खंड हैं। अधिक विवरण के लिए नीचे दिए गए सारणीबद्ध डेटा की जाँच करें-

S.No.

Article Number

Short Details

1.

Article 52

There shall be a President of India.

2.

Article 53

Executive power of the Union

3.

Article 54

Election of President

4.

Article 55

Manner of election of President

5.

Article 56

Term of office of President

6.

Article 57

Eligibility for re-election

7.

Article 58

Qualifications for election as President

8.

Article 59

Conditions of the President's office

9.

Article 60

Oath or affirmation by the President

10.

Article 61

Procedure for impeachment of the President

11.

Article 62

Time of holding an election to fill the vacancy in the office of President and the term of office of person elected to fill a casual vacancy

12.

Article 65

The Vice-President to act as President or to discharge his functions during casual vacancies in the office, or during the absence, of President

13.

Article 70

Discharge of President's functions in other contingencies

14.

Article 71

Matters relating to, or connected with, the election of a President or Vice-President

15.

Article 72

Power of President to grant pardons, etc., and to suspend, remit or commute sentences in certain cases

16.

Article 74

Council of Ministers to aid and advise President

17.

Article 75

Other provisions as to Ministers

18.

Article 76

Attorney-General for India

19.

Article 77

Conduct of business of the Government of India

20.

Article 78

Duties of Prime Minister as respects the furnishing of information to the President, etc

21.

Article 85

Sessions of Parliament, prorogation and dissolution

22.

Article 86

Right of President to address and send messages to Houses

23.

Article 87

Special address by the President

24.

Article 111

Assent to Bills

25.

Article 112

Annual financial statement

26.

Article 123

Power of President to promulgate Ordinances during recess of Parliament

27.

Article 143

Power of President to consult Supreme Court

 
यहाँ एक वीडियो भारतीय राष्ट्रपति के संवैधानिक प्रावधान से संबंधित है। इस वीडियो में, मैंने भारतीय राष्ट्रपति की शक्ति और आपातकालीन शक्ति के बारे में बताया है। मैंने हमारे भारतीय संविधान के अनुसार भारतीय राष्ट्रपति के संवैधानिक प्रावधानों से संबंधित सभी लेखों की व्याख्या की है। यह ट्यूटोरियल वीडियो IAS, RAS, UPSC, RPSC, SSC और अन्य सभी प्रकार की प्रतियोगी परीक्षा के लिए बहुत उपयोगी है।


Bharatiya Samvidhan (Bhartiya Rashtrapati ke sanvaidhaanik tatv) in Hindi.Indian Constitution (Indian President) in Hindi


Watch part 7 at https://www.youtube.com/watch?v=Constitutional Provisions of Indian President(Indian President)


निष्कर्ष:


उपरोक्त जानकारी में, मैंने हमारे संविधान के उन सभी वर्गों का वर्णन किया है जिनमें हमारे माननीय राष्ट्रपति से संबंधित हैं। परीक्षा में भारतीय राष्ट्रपति के संवैधानिक प्रावधानों के संबंध में ऊपर दिए गए लिंक की जाँच करना आपके लिए फायदेमंद होगा। हम भविष्य में आपकी बेहतर सेवा करना चाहते हैं। आगे के प्रश्नों के लिए, आप कमेंट बॉक्स में अपनी शंकाओं को दूर कर सकते हैं और हम आपको जल्द से जल्द जवाब देंगे।

राष्ट्रपति से सम्बंधित संवैधानिक प्रावधान


अनुच्छेद: 52 राष्ट्रपति का पद

अनुच्छेद: 53 राष्ट्रपति की कार्यपालिका

संध की कार्यपालिका शक्ति राष्ट्रपति में निहित होगी, राष्ट्रपति स्वयं या अधीनस्थ अधिकारियों द्वारा इसका उपयोग करेगा |

राष्ट्रपति भारत का राष्ट्र प्रमुख/राज्य प्रमुख हैं | अत: वह नाममात्र का प्रधान हैं |

अनुच्छेद: 54 राष्ट्रपति का निर्वाचक मंडल

निर्वाचक मंडल में तीन प्रकार के सदस्य होते हैं |

1.संसद के सभी निर्वाचित सदस्य (543 + 233 = 776)

2.सभी राज्य विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य (29 राज्य विधानसभाएँ जिनमें कुल 4020 विधायक हैं)

3.दिल्ली और पांडेचेरी विधानसभाओं के सभी निर्वाचित सदस्य (कुल 100 विधायक)

70 वें संविधान संशोधन 1992 की धारा-2 द्वारा एक जून 1995 को दिल्ली और पांडेचेरी के विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्यों को राष्ट्रपति निर्वाचक मंडल में शामिल किया गया |

अनुच्छेद: 55 निर्वाचन की पद्धति;आनुपातिक प्रतिनिधित्व की एकल स्क्रन्मनीय मत प्रणाली

इसमें मैन मूल्य की गणना होती हैं |

विधायक का मत मूल्य निकालने का सूत्र

राज्य की विधानसभा

राज्य विधानसभा के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्या X 1 /1000

संसद सदस्य का मत मूल्य निकालने का सूत्र

सभी विधायकों का कुल मत मूल्य

संसद के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्या

मत मूल्य निकालने का आधार 1971 की जनगणना हैं (2026 तक लागू)

84 वें संविधान संशोधन 2001 द्वारा लागू |

विजयी होने के लिय न्यूनतम कोटा प्राप्त करना आवश्यक हैं |

कोटा निकालने का सूत्र = v + 1

                                                    S + 1

V =  कुल वैध मत मूल्य

S = स्थान (1)

प्रथम वरीयता की गणना पर यदि कोई उम्मीदवार कोटा प्राप्त नहीं करता हैं तो न्यूनतम मत मूल्य वाले मुमिद्वार को बाहर कर उसके वोट की दूसरी वरीयता की गणना की जाती हैं |

Showing page 1 of 4

    Choose from these tabs.

    You may also like

    About author

    Rajesh Bhatia

    This is Rajesh Bhatia. He has been teaching to the students for preparing for competitive exams for 10 years. Talk to him about your problems by connecting social media. Like him on Facebook: https://www.facebook.com/examsbook

    Read more articles

      Report Error: Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams

    Please Enter Message
    Error Reported Successfully